✍ ਜਿਵੇਂ ਪਾਣੀ ਵਿੱਚੋਂ ਉੱਠਣ ਵਾਲੀ ਲਹਿਰ ਨਵੀਂ ਹੁੰਦੀ ਹੈ, ਉਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ ਅੰਦਰੋਂ ਆਉਣ ਵਾਲਾ ਫੁਰਨਾ ਨਵਾਂ ਹੁੰਦਾ ਹੈ।

✍ खुशकी पे है एक सिंह, है दरिया में भी निगरानीहर लहर है आगाहे निहंग, हर मौज है सैलानीकह दो – कभी तलवारों महाफिज थी धरम कीयह बाबा हु नूरानी, और तलवारें भी रूहानी

✍ ਜਿਵੇਂ ਜਾਗ ਲਗਾਉਣ ਨਾਲ ਦੁੱਧ ਜੰਮ ਜਾਂਦਾ ਹੈ । ਇਸੇ ਤਰਾਂ ਜਾਗਣ ਨਾਲ ਮਨ ਡੋਲਣੋਂ ਬੰਦ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ।

✍ एक दायरे में ही हमारा दिल धड़कता है, अगर कम धड़कता है तब भी हानिकारक है, अगर यह अधिक धड़कता है तो भी हानिकारक है। इसलिए हमारा विकास भी एक दायरे में होना चाहिए।

✍ गुरबाणी जो कहती है उसे कभी रद्द नहीं करती, परंतु जिस को रद्द कर देती है उसे कभी नहीं मानती ।

✍ धर्म के इतिहास में आज तक सिवाए रामचन्द्र के कोई भी अशबमेद्ध यज्ञ कर नहीं हारा मगर जो हारा है बह भगवान है जिन्हो ने हराया है उनका नाम तक नहीं है ।

✍ जब सच को छोड़ कर झूठ के सहारे एक दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश होती है तो उसमे से झगड़े पैदा होते हैं ।

✍ जैसे पानी में रहने वाले जीवों का पानी नहीं घटता, ऐसे ही संतोख में रहने वाले का कुछ भी नहीं घटता ।

✍ राम चंद्र का तो अपना लोक परलोक ख़राब है उसकी पूजा करने से तुम्हरा कैसे लोक परलोक सुधर जाएगा ।

✍ जैसे शरीर का कोहड़ रोग शरीर के अंगो को गला देता है वैसे ही आत्मा का कोहड़ रोग ‘अहंकार’ अक्ल को गला देता है ।

संसार शक्ल के श्रृंगार को श्रृंगार मानता है, धर्म अक्ल के श्रृंगार को श्रृंगार मानता है

प्रेस विज्ञप्ति | एक परमेसर – एक धर्म – एक मानव परिवार: प्रमुख धार्मिक व्यक्ति, मानवाधिकार कार्यकर्त्ता, विद्वान तथा किसान एकता, शान्ति एवं न्याय को मजबूत करने के प्रयास के लिए लुधियाना में एकत्र हुए

Press Release | One God – One Religion – One Human Family: Distinguished religious representatives, human rights activists, scholars and farmers joined hands to launch the initiative “Strengthening Unity, Peace and Justice”

ਪ੍ਰੈਸ ਨੋਟ | ਇੱਕ ਪਰਮੇਸਰੁ – ਇੱਕ ਧਰਮ – ਇੱਕ ਮਨੁੱਖੀ ਪਰਿਵਾਰ: ਉੱਘੀਆਂ ਧਾਰਮਿਕ ਸ਼ਖਸੀਅਤਾਂ, ਮਨੁੱਖੀ ਅਧਿਕਾਰ ਕਾਰਜਕਰਤਾ, ਵਿਦਵਾਨ ਅਤੇ ਕਿਸਾਨਾਂ ਨੇ ਏਕਤਾ, ਸ਼ਾਂਤੀ ਅਤੇ ਨਿਆਂ ਨੂੰ ਮਜਬੂਤ ਕਰਨ ਦੇ ਉਦਮ ਲਈ ਇਕੱਤਰ ਹੋਈਆਂ

ਬੁੱਢਾ ਦਲ ਦੇ ਸਾਲਾਨਾ ਜੋੜ ਮੇਲੇ ਵਿਖੇ ਸਮੂਹ ਨਿਹੰਗ ਸਿੰਘ ਜਥੇਬੰਦੀਆਂ ਨੇ ਸ਼ਿਰਕਤ ਕੀਤੀ – ਧਰਮੀ ਬੰਦੇ ਉਹ ਨੇ,‌ ਜਿਹੜੇ ਦੁਨੀਆਂ ਵਿੱਚ ਪ੍ਰੇਮ, ਏਕਤਾ ਅਤੇ ਇਮਾਨਦਾਰੀ ਨੂੰ ਮਜਬੂਤ ਕਰ ਸਕਣ

ਧਰਮ ਸੰਮੇਲਨ ਦਿੱਲੀ: ਦੁਨੀਆਂ ਦੀਆਂ ਸਮੱਸਿਆਵਾਂ ਦਾ ਹੱਲ ਕੇਵਲ ‘ਸੱਚ ਧਰਮ’ ਹੈ, ਉਹ ਧਰਮ, ਜੋ ਪ੍ਰੇਮ ਅਤੇ ਏਕਤਾ ਪੈਦਾ ਕਰਦਾ ਹੈ

“ਕਹੁ ਕਬੀਰ ਜਨ ਭਏ ਖਾਲਸੇ ਪ੍ਰੇਮ ਭਗਤਿ ਜਿਹ ਜਾਨੀ॥” ਖ਼ਾਲਸਾ ਨਿਆਰਾ ਹੈ ਅਤੇ ਉਹਨਾਂ ਦਾ ਪੰਥ ਹੈ, ਜੋ ਪਰਮੇਸ਼ਰ ਦੇ ਹੁਕਮ ਨਾਲ ਜੁੜੇ ਹੋਏ ਹਨ ਅਤੇ ਪ੍ਰੇਮ ਭਗਤਿ ਜਾਣਦੇ ਹੋਣ

search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close